डीजल और विधुत संकर्षण क्या है ? – इनके लाभ और हानि

हेलो दोस्तों, आज में आपको बताने वाला हूं कि डीजल और विधुत संकर्षण क्या है ? – इनके लाभ और हानि | Diesel Electric Traction in hindi:अगर आप भी है जानना चाहते हो तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ते रहिए | तो चलिए शुरू करते हैं

डीजल विद्युत संकर्षण (Diesel-electric traction)

इसमें डीजल इंजन को एक दिष्ट धारा जनित्र (DC Generator) से संयोजित किया जाता है। तथा डीजल इंजन की गति (r.m.p.) स्थिर (constant) रखा जाता है। इस तरह डीजल जनित्र युग्म (diesel generator or D.G. set) से उत्पन्न विद्युत ऊर्जा से ट्रेन चलाए जाते हैं

डीजल विद्युत संकर्षण के अभिलक्षण (Characteristics)

1.विद्युत रेलवे की अपेक्षा प्रारंम्भिक लागत कम होती है क्योंकि इसमें विद्युत उपकेन्द्रों, वितरण लाइनों एवं फीडरों आदि की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

2.इसमें उच्च त्वरण एवं ब्रेकिंग मंदन होता है अतः इसका अनुसूचित गति (scheduled speed) वाष्प लोकोमोटिव की अपेक्षा अधिक होता है।

3.इस संकर्षण व्यवस्था में अरोपित बलाघूर्ण (exerted torque) वाष्प इंजन की अपेक्षा अधिक होता है। इसलिए इसमें अधिक बोगियां (accommodation) लगाए जा सकते हैं। 

4.इंसमें अनुरक्षण एवं मरम्मत में समय वाष्प लोकोमोटिव की अपेक्षा कम लगता है।

5.वाष्प लोकोमोटिव में वाष्पन में समय लगने के कारण तत्काल सेवा में नहीं ला सकते परन्तु डीजल विद्युत लोकोमोटिव में यह समस्या न होने के कारण यह सेवा में आने में समय नहीं लेता है। 

6.इसकी दक्षता 25% है जो वाष्प लोकोमोटिव से अधिक है। 

7.गति नियन्त्रण के समय कोई भी शक्ति हानि नहीं होती है।

डीजल विद्युत संकर्षण की हानियां (Disadvantages)

1.डीजल इंजन का जीवनकाल कम होता है। 

2.सीमित अधिभारण क्षमता होती है। 

3.डीजल इंजन और मोटर जनित्र सेट के शीतलन के लिए पृथक से शीतलन प्रणाली की आवश्यकता पड़ती है। 

4.चालू लागत एवं अनुरक्षण लागत बहुत अधिक होता है। 

5.मोटर-जनित्र सेट एवं अन्य उपसाधनों (accessories) के कारण इंजन का भार अधिक हो जाता है अतः इसे वहन करने के लिए अधिक एक्सल (axles) की आवश्यकता पड़ती है।

6.ईंधन (डीजल) का मूल्य अधिक होता है तथा तीव्रता से मूल्य परिवर्तित होने के कारण देश के अर्थव्यवस्था पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

 विधुत संकर्षण ( Electric Drive Traction)

इसमें विधुत मोटर ड्राइव को शिरोपरि वितरण प्रणाली (overhead distribution system) के प्रदाय (supply) दी जाती है। इसमें दिष्ट धारा श्रेण मोटर या एकल फेजी AC श्रेणी मोटर या 3 phase प्रेरण मोटरों का उपयोग किया जाता है। विद्युत ऊर्जा को यान्त्रिक ऊर्जा में परिवर्तित करके उपलब्ध यान्त्रिक ऊर्जा से ट्रेन चलायी जाती है।

विद्युत ड्राईव के लाभ (Advantages of Electric Drive) 

1.इसमें पानी एवं कोयला संग्रह करने की आवश्यकता नहीं होती है। 

2.इससे वातावरण दूषित (Atomosphere polluted) नहीं होता है 

3.विद्युत संकर्षण प्रणाली साफ सुथरी होती है।

4.इसका अनुरक्षण (Maintenance) सरलता से किया जा सकता है। 

5.इसमें त्वरण एवं मन्दन का अधिक (High acceleration and Retardation) मान प्राप्त किया जा सकता है। 

6.इनमें प्रारम्भिक बलाघूर्ण का मान अधिक होता है। 

7.अन्य आरोधनों (Braking) से विद्युत आरोधन श्रेष्ठ होता है। 

8.विद्युत रेल गाड़ी को थोड़े से समय में प्रचालित (Operate) किया जाता है।

विद्युत ड्राईव के दोष (Disadvantages of ElectricDrive)

1.विद्युत संकर्षण में संस्थापन लागत (Capital Cost) अधिक आती है इसलिए इसके लिए अधिक धन (Money) की प्रारम्भ में आवश्यकता पड़ती है।

2.विद्युत प्रवाह बन्द होने पर रेल ट्रैफिक बाधित हो जाता है। 

3.संकर्षण शक्ति लाइनों (Power lines) के साथ चलने वाली दूरभाष लाइनों (Communication lines) में बाधा (Interference) उत्पन्न होती है। इससे बचाव के लिए या तो दूरभाष लाइनों को दूर हटा दिया जाता है या फिर कीमती केबलों (costly cables) का उपयोग किया जाता है। 

4.वाष्प लोकोमोटिव में ठण्ड के समय रूम ऊष्मन का काम वाष्प से ही सस्ते में हो जाता है परन्तु विद्युत लोकोमोटिव में अतिरिक्त उपकरण लगाना पड़ता है।

अब आप जान गए होंगे कि डीजल और विधुत संकर्षण क्या है ? – इनके लाभ और हानि | Diesel Electric Traction in hindi, डीजल विद्युत संकर्षण के अभिलक्षण, डीजल विद्युत संकर्षण की हानियां, विद्युत ड्राईव के लाभ(Advantages of Electric Drive), विद्युत ड्राईव के दोष(Disadvantages of ElectricDrive)

2 thoughts on “डीजल और विधुत संकर्षण क्या है ? – इनके लाभ और हानि”

Leave a Comment