सीरीज और पैरेलल सर्किट में क्या अन्तर है? | difference between series and parallel circuit in hindi

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि सीरीज और पैरेलल सर्किट में क्या अन्तर है ?(What is the difference between series and parallel circuit in hindi) . इस आर्टिकल में बहुत ही अच्छे तरीके से इन सब के बारे में जानकारी देने वाला हूं| तो चलिए शुरू करते हैं

सीरीज सर्किट और समानांतर सर्किट इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में पाए जाने वाले दो बहुत ही बुनियादी प्रकार के सर्किट हैं। किसी भी सर्किट को प्राथमिक श्रृंखला सर्किट और समानांतर सर्किट में तोड़ा जा सकता है। श्रृंखला सर्किट और समानांतर सर्किट के विचार इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, भौतिकी, रोबोटिक्स, इंस्ट्रूमेंटेशन और डेटा अधिग्रहण, और इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक सर्किट का उपयोग करने वाले किसी भी अन्य क्षेत्र में बहुत महत्वपूर्ण हैं। इस लेख में, हम चर्चा करेंगे कि सीरीज और पैरेलल सर्किट में क्या अन्तर है, उनकी परिभाषाएं, श्रृंखला सर्किट और समानांतर सर्किट के बीच समानताएं और अंत में श्रृंखला सर्किट और समानांतर सर्किट के बीच का अंतर।

समानांतर सर्किट में, प्रत्येक घटक में वोल्टेज समान होता है, और कुल धारा प्रत्येक घटक के माध्यम से बहने वाली धाराओं का योग होता है। एक श्रृंखला सर्किट में, सर्किट को पूरा करने के लिए प्रत्येक डिवाइस को कार्य करना चाहिए। यदि एक श्रृंखला सर्किट में एक बल्ब जलता है, तो पूरा सर्किट टूट जाता है।

सीरीज और पैरेलल सर्किट में अंतर ( series and parallel circuit me antar )

No. सीरीज सर्किट पैरेलल सर्किट
1. इस सर्किट में करंट बहने का केवल एक ही  रास्ता होता है। इसमें करंट बहने के एक से अधिक रास्ते होते हैं।
2.

 कुल रैजिस्टेंस प्रत्येक रैजिस्टेंस के जोड़ के बराबर होती है

अर्थात R = R1 + R2 + R3 + …..

कुल रैजिस्टेंस का विलोमानुपाती प्रत्येक रैजिस्टेंस के विलोमानुपाती योग के बराबर होता है। 

अर्थात 1/R = 1/R1 + 1/R2 + 1/R3 + …..

3. सभी रैजिस्टैंसों में बहने वाली करंट मेन करंट के बराबर होती है। प्रत्येक रैजिस्टैंस में बहने वाली करंट भिन्न-भिन्न होती है (अगर रैजिस्टेंस बराबर न हो)। अधिक रैजिस्टेंस होने पर उसमें से कम करंट बहती है। 
4. एक सीरीज में सर्किट में वोल्टेज ड्रॉप रैजिस्टेंस के मान के अनुसार होती है। अधिक रैजिस्टैंस होने पर अधिक वोल्टेज ड्राप होगी। प्रत्येक रैजिस्टेंस में वोल्टेज ड्रॉप मेन वोल्टेज के समान होती है। 
5.

सर्किट को दी जाने वाली वोल्टेज प्रत्येक रैजिस्टैंस के वोल्टेज ड्रॉप के योग के बराबर होती है।

अर्थात  V= v1 +v2 + v3+…

सर्किट की कुल करंट, पैरेलल में जुड़े भिन्न-भिन्न रैजिस्टैंसों में बहने वाली सभी करंटों के योग के बराबर होती है।

अर्थात  I = i1 + i2+ i3+  …

6. सीरीज सर्किट में कुल रैजिस्टेंस सर्किट के अधिकतम रैजिस्टेंस के मान से अधिक होती है।  पैरेलल सर्किट में कुल रैजिस्टेंस सर्किट में सबसे छोटी रैजिस्टेंस के मान से कम होती है।

(A) सीरीज में लगे लैंप 

Fundamentals of Electricity

(B) पैरेलल में लगे लैंप 

 

यह भी पदे-


आज आपने क्या सीखा :-

अब आप जान गए होंगे कि सीरीज और पैरेलल सर्किट में अंतर, सीरीज और पैरेलल सर्किट में क्या अन्तर है (What is the difference between series and parallel circuit in hindi). इन सभी सवालों का जवाब आपको अच्छी तरह से मिल गया होगा|

उम्मीद करता हूं कि मेरे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी अगर आपके मन में कोई भी सवाल/सुझाव है तो मुझे कमेंट करके नीचे बता सकते हो मैं आपके कमेंट का जरूर जवाब दूंगा| अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई है तो अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ में शेयर भी कर सकते हो

Leave a Comment